newsmantra.in l Latest news on Politics, World, Bollywood, Sports, Delhi, Jammu & Kashmir, Trending news | News Mantra
News Mantra: Exclusive

भारत ने कनाडा के राजनयिक को निकाला, पांच दिन में देश छोड़ने का आदेश

भारत ने कनाडा के राजनयिक को निकाला, पांच दिन में देश छोड़ने का आदेश

नई दिल्ली। कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो के एक बयान के बाद भारत और कनाडा के रिश्तों में तल्खी बढ़ गई है। भारत सरकार ने कनाडा के वरिष्ठ राजनयिक को पांच दिनों के अंदर देश छोड़ने का आदेश दिया है। दरअसल, कनाडा ने खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या का आरोप भारत पर लगाते हुए एक वरीय भारतीय राजनयिक को देश छोड़ने का आदेश दिया था। भारत ने भी इसपर त्वरित प्रतिक्रिया दी और कुछ ही घंटों बाद एक वरिष्ठ कनाडाई राजनयिक को पांच दिनों के अंदर देश छोड़ने का आदेश जारी कर दिया। विदेश मंत्रालय की तरफ से जारी बयान में इसकी पुष्टि की गई है।

मंगलवार को कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने कनाडाई संसद को संबोधित करते हुए कहा कि सिख नेता हरदीप सिंह निज्जर की हत्या में भारतीय एजेंट का हाथ हो सकता है। उन्होंने सीधे तौर पर भारत पर आरोप लगा दिया। कनाडा की विदेश मंत्री ने भी कुछ इसी प्रकार का बयान जारी किया। इसके बाद भारत ने बयान जारी कर कनाडा के आरोपों को खारिज किया। भारत ने कहा कि इस प्रकार का आरोप शर्मनाक और राजनीति से प्रेरित है।

नई दिल्ली। कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो के एक बयान के बाद भारत और कनाडा के रिश्तों में तल्खी बढ़ गई है। भारत सरकार ने कनाडा के वरिष्ठ राजनयिक को पांच दिनों के अंदर देश छोड़ने का आदेश दिया है।

इसके बाद भारत में कनाडा के हाई कमिश्नर को बुलाया गया। उन्हें बताया गया कि भारत ने नई दिल्ली में मौजूद एक वरिष्ठ कनाडाई राजनयिक को देश छोड़कर जाने को कहने का फैसला लिया है। राजनयिक को पांच दिनों के भीतर भारत छोड़कर जाने को कहा गया। विदेश मंत्रालय ने कहा है कि यह फैसला हमारे आंतरिक मामलों में कनाडाई राजनयिक के हस्तक्षेप और भारत विरोधी गतिविधियों में उनकी भागीदारी पर भारत सरकार की बढ़ती चिंता को दर्शाता है।

बता दें कि हरदीप सिंह निज्जर प्रतिबंधित अलगाववादी ग्रुप सिख फॉर जस्टिस से जुड़ा था। इस साल 18 जून को ब्रिटिश कोलंबिया में एक गुरुद्वारे के बाहर निज्जर की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। निज्जर जालंधर के भारसिंह पुरा गांव का रहने वाला था। वह 1996 में कनाडा चला गया था। कनाडा में उसने पलंबर के तौर पर काम की शुरुआत की, लेकिन जल्द ही वह खालिस्तानी गतिविधियों में शामिल हो गया। निज्जर कनाडाई नागरिक बन गया था। यही वजह है कि उसकी हत्या के बाद से ही कनाडा में कुछ सिख अलगाववादी संगठनों ने सरकार पर दबाव बनाना शुरू कर दिया कि वह हत्या की जांच करे। कनाडा के पीएम ने भी निज्जर की हत्या को लेकर संसद में कहा कि उनकी जमीन पर कनाडाई नागरिक की हत्या संप्रभुता का उल्लंघन है। पिछले कुछ सालों में कनाडा खालिस्तानी गतिविधियों का अड्डा बन गया है। हरदीप सिंह निज्जर पंजाब में टारगेट किलिंग करवाता था।

Related posts

Educating Rural Girls: Investing in Women, Accelerating Progress

Newsmantra

Migrant workers, tourists can go back now

Newsmantra

गणेश के अष्टविनायको में सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक- चिंतामणि मंदिर, थेउर

Newsmantra