newsmantra.in l Latest news on Politics, World, Bollywood, Sports, Delhi, Jammu & Kashmir, Trending news | News Mantra
Mantra Special

बार बार मुददे बदलती बीजेपी परेशान क्यों है

बार बार मुददे बदलती बीजेपी परेशान क्यों है

संदीप सोनवलकर

चुनाव के आखिरी दो चरणो मे पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी(RAJEEV GANDHI) को मुददा बनाने की कोशिश साफ तौर पर ये दिखा रही है कि बीजेपी (BJP)आखिरी के इन दो चरणो में किसी तरह चौकीदार चोर है से ध्यान हटाना चाहती है इसलिए खुद प्रधानमंत्री (PM)ने कह दिया कि राजीव गांधी को क्लीन बनाने की कोशिश की गयी पर वो भ्रष्ट्राचारी नंबर 1 बनकर इस दुनिया से गये .जबकि अकाली दल ने 84 के सिख दंगो की याद दिलाकर राजीव गांधी को माब लिंचर कह दिया.

वैसे तो भाषा और तहजीब दोनों के हिसाब से ये बयान सही नही दिखता . परंपरा के हिसाब से किसी भी मृत व्यक्ति के लिए इस तरह के बयानों का इस्तेमाल नही होता लेकिन चुनाव में बहुमत से कम होती दिख रही भाजपा किसी तरह से इसे मुददा बनाना चाहती है. जबकि सबको मालूम है कि राजीव पर बोफोर्स के आरोप जरूर लगे थे लेकिन वो साबित नही हुये और राजीव गांधी की मौत शहीद के तौर पर देखी जाती है क्योकि तमिल आतंकियो के शिकार हुये थे .इसके पहले मोदी पंडित नेहरु (NEHRU)के दौर में कुंभ मे अव्यवस्था और इंदिरा गांधी की इमरजेंसी का मुददा भी उठा चुके है .सवाल ये उठता है कि मोदी(MODI) और बीजेपी आखिरी इस पुराने मुददो को क्यों उठा रही है .

इसकी सीधी और सपाट वजह यही नजर आ रही है कि बीजेपी को भी अहसास होने लगा है कि वो बहुमत के करीब नही पहुंच रही है . आखिरी दो दौर मे वो सीटें है जहां बीजेपी को सबसे ज्यादा उम्मीद है लेकिन उततरप्रदेश(Up) में सपा बसपा का जादू उसे परेशान कर रहा है इसलिए पीएम लगातार हर रैली में नये पत्थर उछालकर माहौल बदलने की कोशिश कर रहे है .

अब तक पीएम ने उछाले मुददे

1.पुलवामा (pulwama)अटैक

2.पिछडी जाति का मुददा . मोदी जाति पर सवाल

3.नेहरु  और कुंभ में गडबडी

4.इंदिरा और इमरजेंसी .गांधी परिवार पर निशाना

  1. अजहर मसूद (azhar masood)को आतंकी घोषित कराना
  2. मैं भी चौकीदार का नारा
  3. शहीदों के नाम पर वोट मांगना

8 .सपा बसपा में दरार की कोशिश

  1. ममता (mamta banarjee) के विधायक तोडने का दावा
  2. राजीव गांधी पर हमला

कुल मिलाकर पीएम मोदी अब तक कई मुददों को उछाल चुके हैं वजह साफ है कि इस बार मोदी के पास अच्छे दिन आयेंगे पर कहने को कुछ दिख नही रहा . नोटबंदी और जीएसटी से बेरोजगारी और किसान असंतोष ऐसे मुददे है जो लगातार परेशान कर रहे है . ऐसे में बीजेपी की कोशिश एजेंडा सेट करने की है. रणनीती साफ है कि गोऐबल्स की तरह सौ बार झूठ बोलो तो सच लगने लगेगा .इसलिए बीजेपी कोई और मुददा बनाने का मौका नही देना चाहती और हर बार कभी सीधे तो कभी परिवार पर हमला कर चाहती है कि यही मुददा बना रहे .

हालांकि कांग्रेस पहली बार संभलकर खेल रही . कुछ गलतियां उससे हो रही है जैसे पुलवामा और सर्जिकल स्ट्राइक के जवाब में कांग्रेस ने कह दिया हमने भी कराये इससे बीजेपी को फायदा हो सकता है .पर ये डिबेट चली नही . बीजेपी को उममीद थी कि कांग्रेस से भी सबूत मांगने का सिलसिला चलेगा पर चला नही गनीमत रही .लेकिन

राजीव पर हमले के जवाब मे कांग्रेस ने पहले तो संभलकर निंदा की फिर राहुल ने कह दिया कि उनके मन में मोदी के लिए नफरत नही प्यार है इससे बीजेपी को बैकफुट पर आना पडा है .

अब तस्वीर साफ होने लगी है कि बीजेपी को समझ में आने लगा है कि बहुमत नही मिलने वाला इसलिए संघ (RSS)से आये राम माधव भी कहने लगे है कि मिलकर सरकार बनायेगे . लेकिन कही हालात 2004 की तरह ना हो जाये जब बीजेपी तो जीती  लेकिन सहयोगी हार गये वैसे भी शिवसेना ,अकाली ,जेडीयू और ऐआईडीएमके के लिए

खबर अच्छी नही हैं .

Related posts

First pictures of Chandrayaan-2

Newsmantra

मराठा हो रहे एकजुट चाहे किसी दल में हो

Newsmantra

Cyclone Amphan Wreaks Havoc

Newsmantra

Leave a Comment

twenty + one =